in

The quaint town of Chanderi is haunted by a unique legend: Stree Movie Review

हॉरर कॉमेडी फिल्म है: स्त्री

English

A grown, desirous woman is a threat to mankind, emphasis on ‘man’. For centuries, women have been pilloried and victimised on the basis of these putrid beliefs. Oh, the horror. Rein her in, tamp down her sexual desires, tie her up, burn her at the stake, put a knife through her scheming heart.

It is fully appropriate that these toxic notions are sent up in a horror-comedy, written by Raj and DK. Stree’s premise is a cracker, leaving you grinning in the dark. But the execution comes off a tad clunky: subversion in a film willing to embrace its silliness can be very effective, but it can get diluted if your messaging is mixed.

In the town of Chanderi (MP, suddenly on the map after Padman), there lives a likely lad called Vicky (Rao), blessed by a keen eye and kind heart. That doesn’t stop him from preening, and falling for a mysterious girl’s (Kapoor) charms. When she says come, he follows, casting aside fears of the ‘stree’ who haunts the town, hunting lone men. There’s a ‘bhootni’ about, beware.Predictably, Vicky is pronounced as Bicky, because Bollywood small town-ness is still denoted by an inability to differentiate between a V and a B. Neither the possessor of the name nor his two good pals, Bittu (Khurrana) and Dana (Banerjee) have any trouble with sophistication; they hang around, slinging jibes about love at first sight, doing ‘frandship’ with ladies of the night, and finally, confronting the ‘stree’.There’s some fun to be had, especially in the shape of town ‘gyaanis’, played by the superbly droll Tripathi and the always entertaining Raaz, and we get to witness a lot of mumbo jumbo about women with bloody ‘ulte paair’ and how the power of a female evil spirit resides in her ‘choti’. And that’s where the problem lies: if a film really wants to undermine these superstitious beliefs, it has to be able to treat these tropes with clear scorn. Stree, in many places, is muddled, not being able to make up its mind whether it wants us to cower or chortle, especially when it slips into Four Easy Ways To Tame A Bhootni And Deal With Misogyny mode.

हिंदी

आज कल के मॉडर्न  जमाने में यूं तो भूत-प्रेत की बातो  पर कोई भी भरोसा  नहीं करता, लेकिन फिर भी कुछ चीजें ऐसी हैं, जो आपको इस पर यकीन करने के लिए मजबूर कर देती हैं। स्त्री भी देश के कुछ शहरो एव हिस्सों में प्रचलित एक अवधारणा पर आधारित है ऐसा माना जाता है कुछ खास दिनों में कोई रूह जो स्त्री का रूप धारण कर के घर के मर्द का नाम ले कर दरवाजे पर आ कर दस्तक देती है और अगर कोई पुरुष दरवाजा खोल देता है तो वह उसको अपने साथ ले जाती है बाहर बस उसके कपडे पड़े रहते है उससे बचने के लिए लोग अपने घर बाहर ‘ओ स्त्री कल आना’ लिख देते है जिसे पढ़ कर वह वापस लोट कर चली जाती है  और ऐसा हर दिन होता है  स्त्री भी एक सच्ची घटना पर आधारित फिल्म है हालां की स्त्री फिल्म के डायरेक्टर अमर कौशिक ने इस फिल्म में थोडा कॉमेडी का मसाला दिया है। फिल्म को असल दिखाने के लिए इसकी शूटिंग भी भोपाल के पास एक ऐसी जगह की गई। जहा ऐसी घटनाओ के बारे में सुनने आता रहता है फिल्म में (विक्की)  राजकुमार राव मध्यप्रदेश के एक छोटे से कसबे चंदेरी में टेलर है। और चंदेरी में साल के चार दिन पूजा होती है। ऐसा कहा जाता है की उन दिनों में स्त्री उन लोगो को अपना शिकार बनाती है। इसलिए वहा के इन दिनों बहुत सावधान रहते है। एक दिन उसकी मुलाकात एक अपरिचित स्त्री (श्रद्धा कपूर) से होती है। विक्की अपने दोस्तों को उस स्त्री के बारे में बताता है। विक्की (राजकुमार राव) उस स्त्री से बहुत बार मिलता है। इस दोरान विक्की का कोई और दोस्त एक के बाद एक स्त्री का शिकार बनते चले जाते है। तब विक्की को उस स्त्री की अजीबो गरीब हरकतों के बारे में समझ में आता है। तो वे रूद्र यानि की (पंकज त्रिपाठी) के पास जाता है। जो उसे स्त्री की सच्चाई के बारे में बताते है। और इससे अधिक जानकारी के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dharmendra and sons Sunny-Bobby Deol are back: Yamla Pagla Deewana Phir Se.

This Film is About Friendship: Mitron