in

Saif Ali Khan film is a long-drawn drama, “Yaha paisa Bhagwaan nahi, par Bhagwaan se kam bhi nahi”

पैसे और धोखे के रोमांच से भरपूर है फिल्म

                                                                       English

Like many young Indians Rizwan Ahmed (Rohan Mehra), from Allahabad recently renamed as Prayaag Raj, wants to move to Bombay, which goes as Mumbai, not “to struggle but to settle” he tells us. He doesn’t want to make it in movies but crack the stock market and impress one of its most successful players Shakun Kothari (Saif Ali Khan), a greedy and powerful Gujarati trader. Like Shakun Kothari he too has the hunger to prove that his small town credentials, absence of an IIM degree and limited English speaking skills don’t determine his business sense.That has as much to do with Baazaar’s listless screenplay as with the characters less wild lifestyle.

Saif Ali Khan gets to play a shrewd businessman with money on his mind and no moral compass but it’s a performance that’s marred courtesy a Gujarati accent that makes sporadic appearances. It doesn’t help that Kothari is devoid of a personality that makes heads turn and is given many attempts to justify his wrongdoings. Rohan Mehra in his debut role has plenty of screen time but there’s only that much impression he can make with a long-drawn drama.

But the most underwritten character is Manish Chaudhuri’s Rana Dasgupta, a Securities and Exchange Board of India (SEBI) official looking to nab Kothari for years with no success. Their rivalry is restricted to one exchange, for the writers Parveez Shaikh and Aseem Arora are too invested in fraud and betrayal.

It doesn’t bode well that Baazaar ends with a factual inaccuracy. Taking the audience for ignorant is not a smart business move.

 

                                                                            Hindi

फिल्म में सैफ अली खान शेयर मार्केट के व्यापारी हैं, जो कि खुद को शेयर बाजार का किंग मानता है। फिल्म में सैफ अली खान (शकुन कोठारी) और उनकी बीवी चित्रांगदा (मंदिरा कोठारी) हैं। फिल्म में शकुन के काम करने का तरीका काफी अलग है, इसलिए उसके साथ के व्यापारी उससे जलते हैं। इस दौरान इलाहाबाद शहर से ट्रेडिंग करने वाले रिजवान अहमद (रोहन मेहरा) की एंट्री मुंबई में होती है। रोहन का सपना एक बार शकुन कोठारी से मिलने का होता है। इस दौरान रिजवान की मुलाकात प्रिया (राधिका आप्टे) से होती है, जो कि एक ट्रेडिंग कंपनी में काम करती है। रिजवान का शकुन से मिलना और उसके बाद और उससे पहले तरह-तरह की घटनाओं का होना एक दिलचस्प वाकये है। फिल्म काफी दिलचस्प है। अंत में कहानी एक अलग ही मुकाम पर पहुंच जाती है, जिसके लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

फिल्म का डायरेक्शन गौरव चावला ने किया, ये उनकी डायरेक्टर के रूप में पहली फिल्म है। गौरव का काम काबिले तारीफ है। फिल्म को दर्शाने का अंदाज काफी अलग है। शेयर मार्केट के बारे में जानकारी न रखने वाला इंसान भी फिल्म की कहानी को आसानी से समझ सकता है। फिल्म में सैफ अली खान की एक्टिंग सही में काफी शानदार है।

फिल्म को 1500 स्क्रीन्स पर रिलीज किया गया है। फिल्म को मिली पॉजीटिव पब्लिसिटी मूवी के बिजनेस के लिए सही साबित हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Tumbbad movie review: A visually Scary story of greed, gold and Mystery

2.0 Trailer Out: After a long wait, we get to see Akshay Kumar, Rajinikanth in their fiercest avatars