in

Darbar Movie Review: An engaging commercial cocktail of action and drama.

रजनीकांत की फिल्म ‘दरबार’ है एक फैमिली एंटरटेनर.

ENGLISH

Dirty Harry seeps into Rajinikanth in A.R. Murugadoss’ Darbar, a messy, massy, mediocre movie masquerading as a megastar vehicle. The 69-year-old superstar takes on the role of a 40-something super cop who is not averse to bending the rules in his pursuit of criminals. The make-up, the outfits and the lighting by seasoned cinematographer Santosh Sivan do a sterling job of persuading us that Rajinikanth is ageless. But no matter what, no movie that features the superstar these days can sidestep the issue of age. Darbar doesn’t. But more on that latter.

Rajinikanth’s charisma is intact and on full display in virtually every frame of the film. Sadly, there is little else in this potboiler that stirs up a broth completely dependent on the lead actor to provide the heft that could compensate for its glaring lack of substance. Darbar is targeted fair and square at Rajinikanth fans, but it does nothing to give masala cinema a fresh shot of energy.

Arunachalam’s advent in Mumbai sends shivers down the spine of the gangsters active in the megapolis, but the cinematic payload that the swaggering protagonist delivers is way below the mark. There is no adrenaline rush nor any emotional tug that can hold the thin narrative together. Darbar lacks the bite that one expects from a Rajinikanth film.

This despite the fact that the actor, needless to say, does not spare any effort to make the character work.

The father-daughter relationship, which could have been a principal component of the storyline, remains only a cursory concern, which robs the film of emotive depth. That apart, the hero’s romantic interest, played by Nayanthara, is given a short shrift by the script.

Everything that Rajini does in Darbar is targeted at his fans. While the star does not miss a trick, Murugadoss makes the mistake of not working enough on the screenplay.
c9kj7fog
HINDI

निर्देशक ए आर मुरुगादॉस की फिल्म ‘दरबार’ रिलीज हो चुकी है। इसमें रजनीकांत को एक गुस्सैल पुलिसवाला दिखाया गया है जिसका नाम आदित्य अरुणासलम होता है। दरबार, पूरी तरह से रजनीकांत की फिल्म है। कहानी इन्हीं के ईर्द-गिर्द घूमती दिखाई देती है। बताया जा रहा है कि रजनीकांत की ये आखिरी फिल्म है।

फिल्म में कई खामियां भी हैं। पहले हाफ में आप केवल रजनीकांत को देखेंगे, स्क्रीन पर इन्होंने धमाल मचाया है। स्लो वॉक और चश्मे के साथ एक्शन से लेकर रजनीकांत ने अपने लुक से दर्शकों का दिल जीता है। फिल्म में नयनतारा को बहुत कम स्क्रीन स्पेस दिया है और उनका किरदार भी ऐसा है जो शायद अनदेखा रह जाए। गैंगस्टर हरी चोपड़ा का किरदार सुनील शेट्टी ने निभाया है जिन्हें काफी क्रूर दिखाया है। निवेथा थोमस को अच्छा खासा स्क्रीन स्पेस दिया है और रजनीकांत संग इनके सीन काफी मजेदार दिखाए हैं। रजनीकांत के फैंस इस फिल्म को एक एंटरटेनर की तरह देख सकते हैं।

रजनीकांत भारतीय सिनेमा का मिथ हैं। पिछले दशक में रिलीज हुईं उनकी नौ फिल्मों में से तमाम हिंदी में भी डब होकर रिलीज हुईं लेकिन पेट्टा, 2.0 और कबाली में हिंदी सिनेमा के दर्शक अपने हाथ जला चुके हैं। अब बारी दरबार की है। दरबार सिनेमा के लिहाज से कुछ ज्यादा नहीं परोसती। रजनीकांत के कंधे पर एक कमजोर कहानी लादकर मुरुगादॉस ने अपनी जिम्मेदारी पूरी कर दी है। रजनीकांत भी कभी जुल्फों को खास अदा में झटककर, पिस्तौल को नचाकर और कपड़ों को पीछे झटककर ऐसी फिल्मों में आगे बढ़ जाते हैं। ये रजनीकांत का ही कमाल है कि एक औसत से कमतर फिल्म को लेकर भी उनके फैंस दीवाने बने रहते हैं।

Darbar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Prime Minister Narendra Modi wishes legendary singer KJ Yesudas on his 80th birthday.

film Jarsey

Shahid Kapoor posted for a photo shoot of the film Jarsey in Mohali, Punjab