in

Baaghi 3 movie review: Tiger Shroff plays Tiger Shroff in a Tiger Shroff film.

देखते रह जाएंगे टाइगर श्रॉफ का जबरदस्त एक्शन, जानिए मिले कितने स्टार.

ENGLISH

Yes Tiger Shroff fans, he does take off his shirt in Baaghi 3. Unlike some Bollywood films of the past decade in which male stars have stripped off their tops for no apparent reason right before a big fight, here an excuse to display that ripped torso is written into the script: the hero’s shirt catches fire so he has to tear it off to save himself.

With such tweaks and touches does Baaghi 3 convince itself that it is different from the templated ventures in which Shroff has been acting since his fists exploded on screen in 2014’s Heropanti. Clarification: it is not.

Baaghi 3 is a remake of the Tamil film Vettai (The Hunt) which starred Arya as the omnipotent brother of a cowardly policeman played by R Madhavan. Team Baaghi‘s poor attitude to quality is confirmed once and for all when the closing credits announce that Vettai was a Telugu film. I suppose because Tamil, Telugu = saaaauth = Madrasi? Ki farak painda? Same same, no?

Anyway, in the Hindi version, Shroff plays Ronnie Chaturvedi who has been aggressively protective of his elder brother Vikram since they were kids. Their father once exhorted Ronnie to forever take care of Vikram who has always been a cowering kitten. When they grow up, Ronnie encourages his sibling to become a policeman, hoping that the uniform will give him a sense of self-worth. Until that happens, one bhai bashes up gangsters of every shade in Agra on behalf of his policeman bhai who then takes the credit.

In Vettai, the brothers’ area of operation was Thoothukudi in Tamil Nadu, but since gang wars in a single Indian city are small change for Shroff I guess, Baaghi 3 travels to Syria where the story becomes about – as the trailer has already grandly informed us – “one man against the whole country”.

The foray into Syria is a departure from the post-2014 trend in Bollywood of demonising Muslims to cash in on rising off-screen Islamophobia. Unlike Kesari, which distorted history to fit this narrative, and unlike Kalank which was selective in its account of Partition for the very same reason, Baaghi 3 makes an overt attempt to state that Indian Muslims are not villains, that Indians and Pakistanis are bhai-bhai, and that we are all helpless in the hands of demons from the Middle East.

One of the many problems with this line though is that you can hardly hope to counter the din of prevailing Islamophobia with immature writing in a film whose primary purpose is not this anyway, but to show off its special effects, its action choreography and Mister Shroff in all his well-muscled, topless glory.

 Baaghi 3 movie review: Tiger Shroff plays Tiger Shroff in a Tiger Shroff film

HINDI

कमर्शियल जोन में सक्सेसफुल फिल्म बनाना मुश्किल काम होता है। ओटीटी प्लेटफॉर्म के आने के बाद सिनेमा को अपनी परिभाषाएं और भाषाएं नए सिरे से तलाशनी पड़ रही हैं। ऐसे में फिल्म का कैनवास जितना संभव हो सके बड़ा बनाने का प्रयास हमारे फिल्ममेकर्स कर रहे हैं।

उसी कड़ी में बागी 3 शुमार है।  यह कहानी है दो भाइयों रॉनी ( टाइगर श्रॉफ) और विक्रम ( रितेश देशमुख) की। कास्टिंग से ही जाहिर है रॉनी बहुत शक्तिशाली है और अपने भाई से बहुत प्यार करता है। विक्रम थोड़ा कमजोर है और थोड़ा बुजदिल भी और इसीलिए रॉनी अपने भाई के लिए हर मुश्किल में ढाल बनकर खड़ा होता है।

रॉनी की बहादुरी के चलते विक्रम को पुलिस में नौकरी मिल जाती है और विक्रम रॉनी की मदद से ही एक बहादुर पुलिस ऑफिसर के तौर पर जाना जाने लगता है। पुलिस डिपार्टमेंट विक्रम को सीरिया में कुछ इंक्वायरी करने के लिए भेजता है, मगर वहां विक्रम के लिए मुश्किलों का पहाड़ खड़ा हो जाता है और उसे छुड़ाने के लिए रॉनी जा पहुंचता है।

यही कहानी है ‘बागी 3’ की। ‘बागी 1’ और ‘बागी 2’ की सफलता के बाद इस फ़िल्म में भी भरपूर एक्शन और रोंगटे खड़े कर देने वाले दृश्यों को पिरोया गया है। लार्जर देन लाइफ एक्शन को निर्देशक अहमद खान ने बड़ी खूबसूरती के साथ पर्दे पर उतारा है।

एक सक्सेसफुल कमर्शियल फिल्म की खासियत यही होती है कि दर्शकों को पता होता है कि नायक जीतने वाला है और उसके बावजूद भी पूरी उत्सुकता से कुर्सी पर जमे रहते हैं। इसमें अहमद खान पूरी तरह से सफल होते हैं। टाइगर श्रॉफ ने जिस तरह के स्टंट और एक्शन फिल्में किए हैं, वह वाकई हैरतअंगेज है।

इस फिल्म से एक खास बात और नजर आती है कि कई सारे इमोशनल सींस में भी टाइगर श्रॉफ कहीं ज्यादा बेहतर नजर आ रहे हैं। रितेश देशमुख एक समर्थ अभिनेता हैं। वह अपनी जगह हर कहीं तलाश लेते हैं। विक्रम के किरदार में उनसे बेहतर कुछ हो नहीं सकता।

बाकी सारे किरदार, भले ही वो श्रद्धा कपूर हों या अंकिता लोखंडे, उन्हें फॉर्मेलिटी के तौर पर रखा गया है, जिनका होना ना होना फिल्म पर कोई फर्क नहीं डालता। कुल मिलाकर बागी 3 कमर्शियल जोन की एक सफल फिल्म है, जिसमें भरपूर मनोरंजन सफल रूप से दर्शकों को परोसा गया है। आप इसका आनंद सपरिवार ले सकते हैं।

Image result for baaghi 3 movie review

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Akshay Kumar beats his own record with Housefull 4, crosses the lifetime collection of Mission Mangal!.

’83 NEW Poster: Ranveer Singh Lifting The World Cup Trophy Is Already Giving Us Goosebumps.