in

Ishita and Utkarsh sharma’ s film Genius- Review

‘जीनियस’ बनकर आया सनी देओल का ये बेटा,

                                                                     Englilsh 

Genius is an Indian action thriller film directed by Anil Sharma. It marks the debut of his son Utkarsh Sharma as a male lead, who also featured as a child actor in Sharma’s 2001 blockbuster film Gadar: Ek Prem KathaBollywood’s illogicality hits a new low with Anil Sharma’s Genius. He may claim that his directorial has everything from romance to action to drama, but I’d say he has only done a good job in parodying these genres in the film. No matter how noble or imaginative his storytelling intent would have been, Genius is an awful mess.In fact, it’s an assault on the eyes, the brain, common sense and human logic in general. Not even the presence of Nawazuddin Siddiqui can save this film from the terribly-executed screenplay and obscure plotline which never feels like anything greater than a ‘90s C-grade film where the hero falls in love with the heroine at first sight.The film has many tired clichés that after a point you start enjoying counting them. In fact, the film’s very beginning makes it clear that Bollywood can never grow up when it comes to dealing with a genre of love story. As the film goes, we come to know that Vasudev Shastri (Utkarsh Sharma) is an agent whose last mission was failed after his entire team was shot dead by a gangster called MRS (Nawazuddin Siddiqui). His girlfriend Nandini (Ishita Chauhan) has been called back from the US to be with him as he thinks he’s responsible for what all happened. One fine day, he sets out on a stylistic rampage to take down MRS who killed his colleagues.

                                                                          हिंदी 

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों’, मां, हुकूमत, ग़दर, अपने, सिंह साहब दा ग्रेट जैसी बेहतरीन फ़िल्मों का निर्देशन कर चुके अनिल शर्मा  के बेटे की फिल्म जीनियस आज रिलीज हो चुकी है यह उत्कर्ष शर्मा की डेब्यू फिल्म है। उत्कर्ष ने ही गदर फिल्म में सनी देओल के बेटे का रोल किया थायह कहानी एक ऐसे युवा आईआईटी जीनियस की है, जो रॉ (रिसर्च ऐंड अनैलेसिस विंग) के मिशन को अपने हाथ में लेता है, लेकिन उसका दिल अपनी प्रेमिका के लिए उतना ही धड़कता है जितना देश के लिए। इसलिए उसे कुछ ऐसा करना है जिससे वह अपने देश के साथ-साथ अपनी प्रेमिका को भी बचा सके। फिल्म का हीरो वासुदेव शास्त्री (उत्कर्ष शर्मा) कभी कॉलेज का सबसे बेवकूफ लड़का बन जाता है तो कभी एक हैंडसम और चार्मिंग हीरो, जिसपर सभी फिदा हैं। वासुदेव जितनी सरलता से मंत्रोच्चारण करता है, उतनी ही सरलता से गोलियां भी दागता है। तेज रफ्तार से बढ़ते सिपाहियों के दल का वह लंगड़ाते हुए साइकिल से पीछा कर लेता है। यहां तक कि कई लोगों की जान बचाने के लिए वह रयूबिक क्यूब को मिनटों में सुलझा देता है। कहने का मतलब है कि इस फिल्म का हीरो हर काम बड़ी ही आसानी और चुटकियों में कर सकता है। और अधिक जानकारी तो आपको फिल्म देखने के बाद ही पता चलेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Happy Bhag jayegi’ Happy to the audience

Some Love Stories never the end: Laila Majnu